अतीत का अलीगढ 4:1853 में अलीगढ़ में थी हिंदुओं की संख्या मुसलमानों से नौ गुनी, 1847 में हुई पहली जनगणना – In 1853, Number Of Hindus In Aligarh Was Nine Times That Of Muslims

अतीत का अलीगढ 4:1853 में अलीगढ़ में थी हिंदुओं की संख्या मुसलमानों से नौ गुनी, 1847 में हुई पहली जनगणना – In 1853, Number Of Hindus In Aligarh Was Nine Times That Of Muslims

[ad_1]

In 1853, number of Hindus in Aligarh was nine times that of Muslims

अतीत का अलीगढ़
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


जिला अलीगढ़ में पहली बार जनगणना का प्रयास 1847 में किया गया था। सभी परगनाओं की आबादी को जोड़कर कुल जनसंख्या 739356 थी। हालांकि जनगणना को अवैज्ञानिक बताया गया था। इसके बाद 1852 में जनगणना कराई गई जिसके नतीजे 1853 में सार्वजनिक किए गए। इसके मुताबिक जिले की कुल जनसंख्या 1026690 थी। इनमें 480786 महिलाएं थीं। हिंदुओं की संख्या 916707 और मुसलिमों की तादात 109983 थी। अर्थात उस वक्त तक हिंदुओं की संख्या मुसलमानों की अपेक्षा लगभग नौ गुनी थी। जनसंख्या का औसत घनत्व 527 व्यक्ति प्रति मील था। कोल तहसील में यह घनत्व सबसे ज्यादा 744 व्यक्ति, हाथरस में 709 , चंडौस और गंगीरी में 390, टप्पल में 370 और बरौली में 360 व्यक्ति प्रति मील था।

1865 में पहली बार जाति और व्यवसाय को शामिल किया गया था जनगणना में

इसके पश्चात जनगणना का कार्य 1865 में किया गया। इस जनगणना में पहली बार जाति और व्यवसाय को शामिल किया गया था। हैरानी वाली बात यह थी कि इस जनगणना में अलीगढ़ जिले की आबादी में कमी दर्ज की गई थी। अंग्रेजों की ओर से तैयार कराए गए दस्तावेजों में जनसंख्या में कमी का कोई स्पष्ट कारण नहीं बताया गया था। लेकिन समझा जाता है कि इसकी प्रमुख वजह 1857 की क्रांति थी। जिसमें बड़ी संख्या में लोग या तो मारे गए थे अथवा जिले से इधर-उधर गए थे। कुल जनसंख्या 926754 दर्ज की गई थी।  इनमें महिलाओं की संख्या 426008 थी। हिंदुओं की संख्या 823228 और मुसलमानों की संख्या 103360 थी। 1872 में कराई गई जनगणना में जनसंख्या में दोबारा वृद्धि दर्ज की गई। अलीगढ़ जिले की कुल जनसंख्या 1073256 दर्ज की गई थी। इनमें 495928 महिलाएं थीं। 955044 हिंदू थे जबकि 117911 मुसलमान थे।

अकाल और बीमारियों ने 1881 में फिर घटा दी जनसंख्या

1881 की जनगणना में मामूली तौर पर जनसंख्या में कमी दर्ज की गई। जिले की कुल जनसंख्या 1021187 थी। इनमें 469903 महिलाएं थीं। जनसंख्या में कमी की मुख्य वजह अकाल और बीमारियों का असर बताई गई थी। पड़ोसी जिलों मथुरा, आगरा और एटा में भी अकाल और बीमारियों का व्यापक असर देखा गया था। इस जनगणना में हिंदुओं की संख्या 901144 और मुसलमानों की संख्या 1021187 थी।

[ad_2]

Source link

anuragtimes.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *