न पति रहा, न मिला देवर:बेटे की हत्या के मामले को दबाने के लिए बहू की कर दी छोटे बेटे से शादी, उसने भी छोड़ा – No Husband Left, No Brother In Law Found

न पति रहा, न मिला देवर:बेटे की हत्या के मामले को दबाने के लिए बहू की कर दी छोटे बेटे से शादी, उसने भी छोड़ा – No Husband Left, No Brother In Law Found

[ad_1]

No husband left, no brother in law found

दुल्हन प्रतीकात्मक
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


हाथरस में सिकंदराराऊ  कोतवाली क्षेत्र के गांव माधुरी निवासी एक युवक को आठ माह पूर्व परिजनों ने जहर देकर  हत्या कर दी। युवक की मौत के बाद उसकी पत्नी की देवर के साथ शादी कर दी गई। शादी के कुछ समय बाद देवर ने भी पीड़िता को छोड़ दिया। पीड़िता ने कोतवाली में न्यायालय के आदेश पर सास समेत दो महिलाओं के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कराई है। 

देवी पुत्री धीरपाल सिंह निवासी गांव भिदौली थाना सोरों जनपद कासगंज ने दर्ज कराई रिपोर्ट में आरोप लगाया है कि उसकी शादी 3 दिसंबर 22 में कुलदीप यादव पुत्र राजकुमार यादव निवासी गांव माधुरी थाना सिकंदराराऊ हाथरस के साथ हुई थी। पीड़िता शादी के बाद 7 दिसंबर 22 को रीति रिवाज के साथ विदा होकर अपने मायके आ गई। पीड़िता ने आरोप लगाया है कि उसकी सास चरित्र हीन महिला है। सास के गांव के कई लोगों से अवैध संबंध हैं। जिसके कारण उसका ससुर गांव छोड़कर इधर-उधर रहते हैं। 

पीड़िता के पति कुलदीप ने पत्नी को बताया था कि उसकी मां का गंदा वीडियो गांव में वायरल है। जिसके कारण उसका अपनी मां से विवाद हुआ है। वह इसी वजह से उसके साथ कुछ भी कर सकती है। पीड़िता ने अपने पति को काफी समझाया तथा सास से भी बात करने का प्रयास किया, किंतु सास ने बात नहीं मानी। सास वीना देवी के संबंध उसके सगे बहनोई जुगेंद्र सिंह पुत्र निरोत्तम सिंह से है तथा पीड़िता का पति कुलदीप इसका विरोध करता था। इस कारण 9 जनवरी 23 को सास ने ससुरालीजनों के साथ मिलकर जान से मारने की नीयत से खाने में जहर दे दिया। जिससे उसके पति की मौत हो गई। 

10 जनवरी को ही गांव की पंचायत में सास, ससुर व ससुरालीजनों ने कुलदीप की हत्या का सच स्वीकार कर लिया और उसे व उसके परिजनों को ससुरालीजनों ने योजनापूर्वक आश्वासन दिया कि पीड़िता की शादी देवर इंद्रजीत से करा दी। इससे पति की हत्या का मामला दब गया। पीड़िता ने परिजनो के कहने पर देवर इंद्रजीत के साथ विवाह को स्वीकार कर लिया। 

15 अप्रैल को उसे सभी रस्में पूर्ण कर मायके भेज दिया गया। 3 मई को उसकी विदाई नियत की गई, किंतु उस दिन  विदा कराने को कोई भी ससुरालीजन नहीं पहुंचा। जब पीड़िता ने पता किया तो उससे कहा गया कि हमारी उंगली दबी थी। जिसको हमने निकाल लिया। अब कभी इधर मत आना, वरना जान जाएगी। पति की हत्या करने के बाद ससुरालीजनों ने उसके साथ छल किया। 

रिपोर्ट में ससुर राजकुमार यादव पुत्र मोहर सिंह, सास वीना देवी , चंद्र्वती पत्नी जुगेंद्र सिंह, जुगेंद्र सिंह पुत्र निरोत्तम सिंह, इंद्रजीत पुत्र राजकुमार निवासीगण गांव माधुरी को नामजद किया है। रिपोर्ट दर्ज होने के बाद पुलिस ने मामले में विवेचना शुरू कर दी है।

[ad_2]

Source link

anuragtimes.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *