बटेश्वर पशु मेला:घोड़ी करिश्मा की खूबसूरती पर लट्टू हुए पारखी, खुराक बनी चर्चा का विषय; कीमत उड़ा देगी होश – Punjabi Nakuli Marwari Kathiawadi Abalak Horses And Mares Are Present In Bateshwar Fair Of Agra

बटेश्वर पशु मेला:घोड़ी करिश्मा की खूबसूरती पर लट्टू हुए पारखी, खुराक बनी चर्चा का विषय; कीमत उड़ा देगी होश – Punjabi Nakuli Marwari Kathiawadi Abalak Horses And Mares Are Present In Bateshwar Fair Of Agra

[ad_1]

Punjabi Nakuli Marwari Kathiawadi Abalak horses and mares are present in Bateshwar fair of Agra

बटेश्वर पशु मेला: घोड़ी करिश्मा की खूबसूरती पर लट्टू हुए पारखी
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


उत्तर प्रदेश में आगरा के बटेश्वर के घोड़ों के मेले में पंजाबी, नकुली, मारवाड़ी, काठियाबाड़ी, अबलक घोड़े-घोड़ी मौजूद हैं। इनकी कीमत 50 हजार से सात लाख रुपये तक है। शनिवार को पारखी पंजाबी नकुली घोड़ी करिश्मा की खूबसूरती पर लट्टू रहे।

करहल (मैनपुरी) के जयपाल सिंह ने अपनी घोड़ी करिश्मा की कीमत 8 लाख रुपये रखी है। वह कीमत की वजह घोड़ी की खूबसूरती के साथ ही तेज चाल और नाच खूबी बताते हैं। ऊंचाई भी 63 इंच है। उन्होंने बताया कि करिश्मा अदंत है। उसको रोजाना आठ लीटर दूध और सात किलो चने के दाने की खुराक दी जाती है। चाल, नृत्य, रूप, रंग को देखने के लिए पारखियों की दिनभर घोड़ी के पास भीड़ जमा रही।

मंदी से मायूस व्यापारी

बटेश्वर के सिमटते पशु मेले में मंदी से व्यापारी किसान मायूस रहे। खरीद की कीमत न मिलने पर अपनी मवेशी लेकर लौटने को मजबूर व्यापारियों का शनिवार को दर्द छलक पड़ा। बदायूं के रिजवान कादरी अपनी घोड़ी रूपवती और घोड़े कजरी के साथ वापसी की राह देख रहे थे। 

उन्होंने बताया कि घोड़ा और घोड़ी को छह लाख में खरीदा था, कीमत मिल रही थी महज पांच लाख रुपये, लिहाजा बिना बेचे लौटने के अलावा कोई चारा नहीं बचा है। बरेली के गफूर खां, सात घोड़े बेचने के लिए बटेश्वर मेले में लाए थे। लेकिन महज एक बिक सका। 

यह भी पढ़ेंः- Agra: ताजमहल के अंदर गिरी किशोरी, सिर पर लगी चोट तो बहने लगा खून; रेस्पांस टीम ने डिस्पेंसरी पहुंचाया

गुरसागंज के मोहम्मद नसुरुद्दीन ने बताया कि 10 घोड़े और घोड़ी लाए थे। इनमें से छह बिके हैं। ऊंटों का मेला भी मंदी की मार की बजह से समय से पहले खत्म हो गया। गधे और खच्चर के मेले में भी मंदी की मार रही। हालांकि खरीदारी करने वाले किसानों के लिहाज से मंदी अच्छी रही।

[ad_2]

Source link

anuragtimes.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *