Mainpuri:डाकघरों में गबन के मामलों में इजाफा… खाताधारक बेचैन, अब तक तीन मामले हो चुके उजागर – Due To Cases Of Embezzlement In Postal Department In Mainpuri Customers Losing Confidence

Mainpuri:डाकघरों में गबन के मामलों में इजाफा… खाताधारक बेचैन, अब तक तीन मामले हो चुके उजागर – Due To Cases Of Embezzlement In Postal Department In Mainpuri Customers Losing Confidence

[ad_1]

Due to cases of embezzlement in postal department in Mainpuri customers losing confidence

गबन (सांकेतिक)
– फोटो : सोशल मीडिया

विस्तार


उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में डाक विभाग में लगातार सामने आ रहे गबन से अब ग्राहकों का भरोसा उठने लगा है। जिन खाताधारकों के खाते डाकघर में संचालित हैं उनकी बेचैनी भी बढ़ गई है। उन्हें भी अपने खातों से गबन होने की आशंका सता रही है। ऐसे में डाक विभाग को गबन की जड़ तक जाने के लिए सभी खातों की जांच करानी होगी।

अब तक लोगों को डाक विभाग में जमा धनराशि सुरक्षित होने का भरोसा रहता था। लेकिन अब धीरे-धीरे ये भरोसा टूट रहा है। जिले में एक के बाद एक तीन डाकघरों में गबन के मामले सामने आ चुके हैं। तीन माह पहले शाखा डाकघर अंगौथा में पहली बार गबन का मामला सामने आया था। इसके बाद प्रधान डाकघर में गबन उजागर हुआ था। इसकी जांच अभी पूरी नहीं हुई थी कि शाखा डाकघर रठेह में भी गबन सामने आ गया है।

यह भी पढ़ेंः- UP: फसल बीमा फर्जीवाड़े की होगी रिकवरी… तीन सौ से अधिक किसानों की सूची तैयार; कहीं जद में आप भी तो नहीं?

सुकन्या समृद्धि योजना के खाते से 60 हजार का गबन किया गया। ऐसे में डाकघर में जिन लोगों के खाते संचालित हैं उन्हें चिंता सता रही है। भले ही अब तक तीन डाकघरों में गबन सामने आया है, लेकिन अन्य डाकघरों में भी गबन की आशंका बढ़ गई है। खाताधारकों को चिंता सता रही है कि कहीं उनके खाते से भी कहीं गबन तो नहीं हुआ है। अगर सभी डाकघरों में खातों की जांच कराई जाए तो गबन सामने आ सकता है।

डाक विभाग के जिम्मेदार ही दे रही ढील

डाक विभाग में लगातार गबन सामने आ रहे हैं, लेकिन विभाग के जिम्मेदार अधिकारी ही मामले को ढील दे रहे हैं। दरअसल अब तक प्रधान डाकघर में हुए गबन कही जांच नहीं हो पा रही है। यहां तक कि सभी पीड़ितों के शिकायती पत्र अब तक जांच में शामिल ही नहीं किए जा सके हैं। अब भी प्रधान डाकघर आने वाले खाताधारकों को रुपये वापस लौटाने का आश्वासन देकर चुप रहने की नसीहत खुद जिम्मेदार ही देते हैं।

[ad_2]

Source link

anuragtimes.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *